जिंदा इंसान को दफन करने के बाद यहां मनाया जाता है जश्न | They are celebrated after burial of human beings: Hindipost News




जिंदा इंसान को दफन करने के बाद यहां मनाया जाता है जश्न

Updated on 08 Nov 2017 by Hindipost


                    

विश्व के अलग-अलग हिस्से में कई तरह की खास परंपराएं प्रचलित या मानते  हैं। कुछ परंपराएं तो ऐसी हैं, जिनके बारे में हमें यकीन कर पाना मुश्किल हो जाता है। ऐसी ही एक परंपरा क्यूबा में है, जहां जिंदा आदमी को दफन कर दिया जाता है और इसके बाद खूब धूम-धाम से जश्न भी मनाया जाता है। साथ ही सफेद बालों वाली एक महिला उसकी विधवा बनती है।
यह प्रथा क्यूबा में बूजी फेस्टिवल के नाम से मशहूर है। यह एक तरह का शराब फेस्टिवल है। इसमें किसी एक आदमी को ताबूत में बंद करते हैं और उसे शहर की सड़कों पर घुमाया जाता है। ताबूत के पीछे-पीछे उसके रिश्तेदारों और लोगों की भीड़ चलती है। सिर्फ इतना ही नहीं सफेद बालों वाली जिस महिला को उसकी विधवा बनाया जाता है, वह औरत उस व्यक्ति का हर वह काम करती है जो एक विधवा करती है। ताबूत के पीछे सभी लोग शराब के नशे में तालियां बजाते और नाचते गाते चलते हैं।
इस त्योहार का नाम ब्यूरियल ऑफ पचैंचो है, इसे इतनी धूमधाम से मनाया जाता है कि जैसे शादी का कोई फंक्शन हो। इस अनोखे त्योहार की शुरुआत 1984 में हुई थी। यहां के लोग इसे नए जन्म के संकेत के तौर पर देखते हैं।




जिंदा इंसान को दफन करने के बाद यहां मनाया जाता है जश्न

Updated on 08 Nov 2017 by Hindipost



              

विश्व के अलग-अलग हिस्से में कई तरह की खास परंपराएं प्रचलित या मानते  हैं। कुछ परंपराएं तो ऐसी हैं, जिनके बारे में हमें यकीन कर पाना मुश्किल हो जाता है। ऐसी ही एक परंपरा क्यूबा में है, जहां जिंदा आदमी को दफन कर दिया जाता है और इसके बाद खूब धूम-धाम से जश्न भी मनाया जाता है। साथ ही सफेद बालों वाली एक महिला उसकी विधवा बनती है।
यह प्रथा क्यूबा में बूजी फेस्टिवल के नाम से मशहूर है। यह एक तरह का शराब फेस्टिवल है। इसमें किसी एक आदमी को ताबूत में बंद करते हैं और उसे शहर की सड़कों पर घुमाया जाता है। ताबूत के पीछे-पीछे उसके रिश्तेदारों और लोगों की भीड़ चलती है। सिर्फ इतना ही नहीं सफेद बालों वाली जिस महिला को उसकी विधवा बनाया जाता है, वह औरत उस व्यक्ति का हर वह काम करती है जो एक विधवा करती है। ताबूत के पीछे सभी लोग शराब के नशे में तालियां बजाते और नाचते गाते चलते हैं।
इस त्योहार का नाम ब्यूरियल ऑफ पचैंचो है, इसे इतनी धूमधाम से मनाया जाता है कि जैसे शादी का कोई फंक्शन हो। इस अनोखे त्योहार की शुरुआत 1984 में हुई थी। यहां के लोग इसे नए जन्म के संकेत के तौर पर देखते हैं।







यही हाल रहा तो 2019 Election में भी हार होगी': BJP…
Updated on 14 Mar 2018



30 हज़ार से ज़्यादा किसान नासिक से पैदल मुंबई पहुंचे,…
Updated on 11 Mar 2018



PM मोदी के फॉलोवर ट्विटर पर सब से ज़्यादा, जानिए भारत…
Updated on 07 Dec 2017



विराट कोहली से शादी की खबर पर अनुष्का शर्मा ने बताई…
Updated on 07 Dec 2017



राम मंदिर-बाबरी मस्जिद: जानिये छह दिसंबर 1992 को अयोध्या…
Updated on 04 Dec 2017




दुनिया के सबसे शक्तिशाली सेनाएं, जानिये हमारा देश…
Updated on 09 May 2017



ये है दुनिया के सबसे अजीबोगरीब रिकॉर्ड, जानिए कौन…
Updated on 09 May 2017



भारत रत्न किसे और क्यों दिया जाता है ?
Updated on 01 May 2017



HIV/AIDS पीड़ित के साथ ये काम करने से AIDS नहीं होता
Updated on 01 Dec 2017



लौंग व लौंग के तेल के 10 बेहतरीन व महत्वपूर्ण फायदे
Updated on 09 May 2017


जिंदा इंसान को दफन करने के बाद यहां मनाया जाता है जश्न

Updated on 08 Nov 2017 by Hindipost


              

विश्व के अलग-अलग हिस्से में कई तरह की खास परंपराएं प्रचलित या मानते  हैं। कुछ परंपराएं तो ऐसी हैं, जिनके बारे में हमें यकीन कर पाना मुश्किल हो जाता है। ऐसी ही एक परंपरा क्यूबा में है, जहां जिंदा आदमी को दफन कर दिया जाता है और इसके बाद खूब धूम-धाम से जश्न भी मनाया जाता है। साथ ही सफेद बालों वाली एक महिला उसकी विधवा बनती है।
यह प्रथा क्यूबा में बूजी फेस्टिवल के नाम से मशहूर है। यह एक तरह का शराब फेस्टिवल है। इसमें किसी एक आदमी को ताबूत में बंद करते हैं और उसे शहर की सड़कों पर घुमाया जाता है। ताबूत के पीछे-पीछे उसके रिश्तेदारों और लोगों की भीड़ चलती है। सिर्फ इतना ही नहीं सफेद बालों वाली जिस महिला को उसकी विधवा बनाया जाता है, वह औरत उस व्यक्ति का हर वह काम करती है जो एक विधवा करती है। ताबूत के पीछे सभी लोग शराब के नशे में तालियां बजाते और नाचते गाते चलते हैं।
इस त्योहार का नाम ब्यूरियल ऑफ पचैंचो है, इसे इतनी धूमधाम से मनाया जाता है कि जैसे शादी का कोई फंक्शन हो। इस अनोखे त्योहार की शुरुआत 1984 में हुई थी। यहां के लोग इसे नए जन्म के संकेत के तौर पर देखते हैं।