अब्राहम लिंकन अमेरिका के पहले राष्ट्रपति थे जो दाढ़ी रखते थे, और जानिये इनका पूरा कार्यकाल | Abraham Lincoln was the first President of America who kept a beard and know his full life journey : Hindipost News




अब्राहम लिंकन अमेरिका के पहले राष्ट्रपति थे जो दाढ़ी रखते थे, और जानिये इनका पूरा कार्यकाल

Updated on 14 May 2017 by Hindipost


                    

अब्राहम लिंकन का जन्म १२ फरवरी १८०९ में हुआ था। अब्राहम अमेरिका के सोलहवें राष्ट्रपति थे। इनका कार्यकाल १८६१ से १८६५ तक था। ये रिपब्लिकन पार्टी से थे। उन्होने अमेरिका को उसके सबसे बड़े संकट - गृहयुद्ध (अमेरिकी गृहयुद्ध) से पार लगाया। अमेरिका में दास प्रथा के अंत का श्रेय लिंकन को ही जाता है।
अब्राहम लिंकन का जन्म एक गरीब अश्वेत परिवार में हुआ था। वे प्रथम रिपब्लिकन थे जो अमेरिका के राष्ट्रपति बने। उसके पहले वे एक वकील, इलिअन्स स्टेट के विधायक (लेजिस्लेटर), अमेरिका के हाउस ऑफ् रिप्रेस्न्टेटिव्स के सदस्य थे। वे दो बार सीनेट के चुनाव में असफल भी हुए।

वे एक कुशल राजनीतिज्ञ होने के साथ-साथ पुस्तक-प्रेमी, गंभीर विचारक और लेखक भी थे। उन्होंने देश को सदा के लिए दो भागों में बँटने से बचाया और भयंकर रूप से अमानवीय गुलाम प्रथा से भी देश को मुक्ति दिलाई। अब्राहम लिंकन ने अमेरिका को उसके सबसे बड़े संकट - गृहयुद्ध से पार लगाया। अमेरिका में दास प्रथा के अंत का श्रेय लिंकन को ही जाता है। उनका निधन 15 अप्रैल, 1865 में हुआ।

देश में गुलामी की प्रथा की समस्याओं चल रही थी ,गोरे लोग दक्षिणी राज्यों के बड़े खेतों के स्वामी थे , और वह अफ्रीका से काले लोगो को अपने खेत में काम करने के लिए बुलाते थे और उन्हें दास के रूप में रखा जाता था। उत्तरी राज्यों के लोग गुलामी की इस प्रथा के खिलाफ थे और इसे समाप्त करना चाहते हैं अमेरिका का संविधान आदमी की समानता पर आधारित है। इसलिए वहाँ है कि देश में गुलामी के लिए कोई जगह नहीं थी।

इस मुश्किल समय में, अब्राहम लिंकन 1860 में संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए थे। वह गुलामी की समस्या को हल करना चाहता था। दक्षिणी राज्यों के लोग गुलामी के उन्मूलन के खिलाफ थे। इससे देश की एकता में खतरे आ सकता है। दक्षिणी राज्य एक नए देश बनाने की तैयार कर रहा था परन्तु । अब्राहम लिंकन चाहता था की सभी राज्यों एकजुट हो कर रहे।

14 अप्रैल 1865 को वॉशिंग्टन के एक नाट्यशाला मे नाटक देख रहे थे तभी ज़ॉन विल्किज बुथ नाम के युवक ने उनको गोली मारी। इस घटना के बाद दुसरे दिन मतलब 15 अप्रैल के सुबह अब्राहम लिंकन की मौत हुई।
अब्राहम लिंकन के बारे में कुछ खास बाते :
१. लिंकन अमेरिका के पहले राष्ट्रपति थे जो दाढ़ी रखते थे।
२. १२ फरवरी १८०९ इतिहास का बहुत निराला दिन है इसी दिन सीगर्ल्स डार्विन का भी जन्म हुआ था।




अब्राहम लिंकन अमेरिका के पहले राष्ट्रपति थे जो दाढ़ी रखते थे, और जानिये इनका पूरा कार्यकाल

Updated on 14 May 2017 by Hindipost



              

अब्राहम लिंकन का जन्म १२ फरवरी १८०९ में हुआ था। अब्राहम अमेरिका के सोलहवें राष्ट्रपति थे। इनका कार्यकाल १८६१ से १८६५ तक था। ये रिपब्लिकन पार्टी से थे। उन्होने अमेरिका को उसके सबसे बड़े संकट - गृहयुद्ध (अमेरिकी गृहयुद्ध) से पार लगाया। अमेरिका में दास प्रथा के अंत का श्रेय लिंकन को ही जाता है।
अब्राहम लिंकन का जन्म एक गरीब अश्वेत परिवार में हुआ था। वे प्रथम रिपब्लिकन थे जो अमेरिका के राष्ट्रपति बने। उसके पहले वे एक वकील, इलिअन्स स्टेट के विधायक (लेजिस्लेटर), अमेरिका के हाउस ऑफ् रिप्रेस्न्टेटिव्स के सदस्य थे। वे दो बार सीनेट के चुनाव में असफल भी हुए।

वे एक कुशल राजनीतिज्ञ होने के साथ-साथ पुस्तक-प्रेमी, गंभीर विचारक और लेखक भी थे। उन्होंने देश को सदा के लिए दो भागों में बँटने से बचाया और भयंकर रूप से अमानवीय गुलाम प्रथा से भी देश को मुक्ति दिलाई। अब्राहम लिंकन ने अमेरिका को उसके सबसे बड़े संकट - गृहयुद्ध से पार लगाया। अमेरिका में दास प्रथा के अंत का श्रेय लिंकन को ही जाता है। उनका निधन 15 अप्रैल, 1865 में हुआ।

देश में गुलामी की प्रथा की समस्याओं चल रही थी ,गोरे लोग दक्षिणी राज्यों के बड़े खेतों के स्वामी थे , और वह अफ्रीका से काले लोगो को अपने खेत में काम करने के लिए बुलाते थे और उन्हें दास के रूप में रखा जाता था। उत्तरी राज्यों के लोग गुलामी की इस प्रथा के खिलाफ थे और इसे समाप्त करना चाहते हैं अमेरिका का संविधान आदमी की समानता पर आधारित है। इसलिए वहाँ है कि देश में गुलामी के लिए कोई जगह नहीं थी।

इस मुश्किल समय में, अब्राहम लिंकन 1860 में संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए थे। वह गुलामी की समस्या को हल करना चाहता था। दक्षिणी राज्यों के लोग गुलामी के उन्मूलन के खिलाफ थे। इससे देश की एकता में खतरे आ सकता है। दक्षिणी राज्य एक नए देश बनाने की तैयार कर रहा था परन्तु । अब्राहम लिंकन चाहता था की सभी राज्यों एकजुट हो कर रहे।

14 अप्रैल 1865 को वॉशिंग्टन के एक नाट्यशाला मे नाटक देख रहे थे तभी ज़ॉन विल्किज बुथ नाम के युवक ने उनको गोली मारी। इस घटना के बाद दुसरे दिन मतलब 15 अप्रैल के सुबह अब्राहम लिंकन की मौत हुई।
अब्राहम लिंकन के बारे में कुछ खास बाते :
१. लिंकन अमेरिका के पहले राष्ट्रपति थे जो दाढ़ी रखते थे।
२. १२ फरवरी १८०९ इतिहास का बहुत निराला दिन है इसी दिन सीगर्ल्स डार्विन का भी जन्म हुआ था।







यही हाल रहा तो 2019 Election में भी हार होगी': BJP…
Updated on 14 Mar 2018



30 हज़ार से ज़्यादा किसान नासिक से पैदल मुंबई पहुंचे,…
Updated on 11 Mar 2018



PM मोदी के फॉलोवर ट्विटर पर सब से ज़्यादा, जानिए भारत…
Updated on 07 Dec 2017



विराट कोहली से शादी की खबर पर अनुष्का शर्मा ने बताई…
Updated on 07 Dec 2017



राम मंदिर-बाबरी मस्जिद: जानिये छह दिसंबर 1992 को अयोध्या…
Updated on 04 Dec 2017




जानिये टीबी के कुछ लक्षण और उसके होने का कारण
Updated on 14 May 2017



काटो का ताज लेके बने एक बड़े उद्योगपति चंद्र देवेश्वर…
Updated on 09 May 2017



वाल्ट डिज्नी की सफलता से लेकर असफलता तक की कहानी।
Updated on 06 May 2017



इंडस्ट्रीज के प्रकार और उनसे जुड़ी कुछ खास जानकारी…
Updated on 01 May 2017



एक ट्रांसपोर्ट कंपनी से इनफ़ोसिस तक का सफर मोहनदास…
Updated on 07 May 2017


अब्राहम लिंकन अमेरिका के पहले राष्ट्रपति थे जो दाढ़ी रखते थे, और जानिये इनका पूरा कार्यकाल

Updated on 14 May 2017 by Hindipost


              

अब्राहम लिंकन का जन्म १२ फरवरी १८०९ में हुआ था। अब्राहम अमेरिका के सोलहवें राष्ट्रपति थे। इनका कार्यकाल १८६१ से १८६५ तक था। ये रिपब्लिकन पार्टी से थे। उन्होने अमेरिका को उसके सबसे बड़े संकट - गृहयुद्ध (अमेरिकी गृहयुद्ध) से पार लगाया। अमेरिका में दास प्रथा के अंत का श्रेय लिंकन को ही जाता है।
अब्राहम लिंकन का जन्म एक गरीब अश्वेत परिवार में हुआ था। वे प्रथम रिपब्लिकन थे जो अमेरिका के राष्ट्रपति बने। उसके पहले वे एक वकील, इलिअन्स स्टेट के विधायक (लेजिस्लेटर), अमेरिका के हाउस ऑफ् रिप्रेस्न्टेटिव्स के सदस्य थे। वे दो बार सीनेट के चुनाव में असफल भी हुए।

वे एक कुशल राजनीतिज्ञ होने के साथ-साथ पुस्तक-प्रेमी, गंभीर विचारक और लेखक भी थे। उन्होंने देश को सदा के लिए दो भागों में बँटने से बचाया और भयंकर रूप से अमानवीय गुलाम प्रथा से भी देश को मुक्ति दिलाई। अब्राहम लिंकन ने अमेरिका को उसके सबसे बड़े संकट - गृहयुद्ध से पार लगाया। अमेरिका में दास प्रथा के अंत का श्रेय लिंकन को ही जाता है। उनका निधन 15 अप्रैल, 1865 में हुआ।

देश में गुलामी की प्रथा की समस्याओं चल रही थी ,गोरे लोग दक्षिणी राज्यों के बड़े खेतों के स्वामी थे , और वह अफ्रीका से काले लोगो को अपने खेत में काम करने के लिए बुलाते थे और उन्हें दास के रूप में रखा जाता था। उत्तरी राज्यों के लोग गुलामी की इस प्रथा के खिलाफ थे और इसे समाप्त करना चाहते हैं अमेरिका का संविधान आदमी की समानता पर आधारित है। इसलिए वहाँ है कि देश में गुलामी के लिए कोई जगह नहीं थी।

इस मुश्किल समय में, अब्राहम लिंकन 1860 में संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए थे। वह गुलामी की समस्या को हल करना चाहता था। दक्षिणी राज्यों के लोग गुलामी के उन्मूलन के खिलाफ थे। इससे देश की एकता में खतरे आ सकता है। दक्षिणी राज्य एक नए देश बनाने की तैयार कर रहा था परन्तु । अब्राहम लिंकन चाहता था की सभी राज्यों एकजुट हो कर रहे।

14 अप्रैल 1865 को वॉशिंग्टन के एक नाट्यशाला मे नाटक देख रहे थे तभी ज़ॉन विल्किज बुथ नाम के युवक ने उनको गोली मारी। इस घटना के बाद दुसरे दिन मतलब 15 अप्रैल के सुबह अब्राहम लिंकन की मौत हुई।
अब्राहम लिंकन के बारे में कुछ खास बाते :
१. लिंकन अमेरिका के पहले राष्ट्रपति थे जो दाढ़ी रखते थे।
२. १२ फरवरी १८०९ इतिहास का बहुत निराला दिन है इसी दिन सीगर्ल्स डार्विन का भी जन्म हुआ था।