जानिये टीबी के कुछ लक्षण और उसके होने का कारण | Know some symptoms of TB and the reason for it: Hindipost News




जानिये टीबी के कुछ लक्षण और उसके होने का कारण

Updated on 14 May 2017 by Hindipost


                    

टीबी एक आम और कई मामलों में घातक संक्रामक बीमारी है जो माइक्रोबैक्टीरिया, आमतौर पर माइकोबैक्टीरियम तपेदिक के विभिन्न प्रकारों की वजह से होती है। क्षय रोग आम तौर पर फेफड़ों पर हमला करता है, लेकिन यह शरीर के अन्य भागों को भी प्रभावित कर सकता हैं। यह हवा के माध्यम से तब फैलता है, जब वे लोग जो सक्रिय टीबी संक्रमण से ग्रसित हैं, खांसी, छींक, या किसी अन्य प्रकार से हवा के माध्यम से अपना लार संचारित कर देते हैं।

ज्यादातर संक्रमण स्पर्शोन्मुख और भीतरी होते हैं, लेकिन दस में से एक भीतरी संक्रमण, अंततः सक्रिय रोग में बदल जाते हैं, जिनको अगर बिना उपचार किये छोड़ दिया जाये तो ऐसे संक्रमित लोगों में से 50% से अधिक की मृत्यु हो जाती है।
टी.बी. रोग एक बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होता है। इसे फेफड़ों का रोग माना जाता है, लेकिन यह फेफड़ों से रक्त प्रवाह के साथ शरीर के अन्य भागों में भी फैल सकता है, जैसे हड्डियाँ, हड्डियों के जोड़, लिम्फ ग्रंथियां, आंत, मूत्र व प्रजनन तंत्र के अंग, त्वचा और मस्तिष्क के ऊपर की झिल्ली आदि।

टी.बी. के बैक्टीरिया सांस द्वारा शरीर में प्रवेश करते हैं। किसी रोगी के खांसने, बात करने, छींकने या थूकने के समय बलगम व थूक की बहुत ही छोटी-छोटी बूंदें हवा में फैल जाती हैं, जिनमें उपस्थित बैक्टीरिया कई घंटों तक हवा में रह सकते हैं और स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में सांस लेते समय प्रवेश करके रोग पैदा करते हैं।
टीबी के लक्षण :
१. 3 हफ्ते से अधिक समय कि खांसी
२. रात के समय अधिक पसीना आना
३. एक महीने से ज्यादा समय तक सीने में दर्द
४. शाम के समय बुखार आना
५. भूक कम लगना
यह बीमारी हवा के जरिये एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति हो फैलाती है, हवा में इसके जीवाणु कम से कम 5 घंटे तक और उससे भी अधिक जीवित रहते है, यह बीमारी हवा के जरिये बहुत तेजी से और आसानी से फैलती है, खासी को कभी भी नज़रंदाज़ नहीं करना चाहिए
टीबी क्यों होता है और उसकी क्या वजह हो सकती है ?
१. गाय का कच्चा दूध पीने से टी.बी होने की संभावना बढ़ जाती है।
२. इन्फेक्टेड इंजेक्शन से
३. रोगी के संपर्क में रहने से इत्यादी
४. कपड़ा मिल में काम करने वाले श्रमिकों को यो रोग होने की ज्यादा संभवाना होती है, क्योंकि कपड़ो के रेशे-रोएं सांस लेते वक्त उनके अंदर प्रवेश कर जाते हैं।
५. मीजल्स,न्यूमोनिया और एचआईवी पॉजिटिव होना भी टी.बी का कारण हो सकता है।
६. छींकने खासने से
७. चुम्बन लार या थूक से फैलती है




जानिये टीबी के कुछ लक्षण और उसके होने का कारण

Updated on 14 May 2017 by Hindipost



              

टीबी एक आम और कई मामलों में घातक संक्रामक बीमारी है जो माइक्रोबैक्टीरिया, आमतौर पर माइकोबैक्टीरियम तपेदिक के विभिन्न प्रकारों की वजह से होती है। क्षय रोग आम तौर पर फेफड़ों पर हमला करता है, लेकिन यह शरीर के अन्य भागों को भी प्रभावित कर सकता हैं। यह हवा के माध्यम से तब फैलता है, जब वे लोग जो सक्रिय टीबी संक्रमण से ग्रसित हैं, खांसी, छींक, या किसी अन्य प्रकार से हवा के माध्यम से अपना लार संचारित कर देते हैं।

ज्यादातर संक्रमण स्पर्शोन्मुख और भीतरी होते हैं, लेकिन दस में से एक भीतरी संक्रमण, अंततः सक्रिय रोग में बदल जाते हैं, जिनको अगर बिना उपचार किये छोड़ दिया जाये तो ऐसे संक्रमित लोगों में से 50% से अधिक की मृत्यु हो जाती है।
टी.बी. रोग एक बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होता है। इसे फेफड़ों का रोग माना जाता है, लेकिन यह फेफड़ों से रक्त प्रवाह के साथ शरीर के अन्य भागों में भी फैल सकता है, जैसे हड्डियाँ, हड्डियों के जोड़, लिम्फ ग्रंथियां, आंत, मूत्र व प्रजनन तंत्र के अंग, त्वचा और मस्तिष्क के ऊपर की झिल्ली आदि।

टी.बी. के बैक्टीरिया सांस द्वारा शरीर में प्रवेश करते हैं। किसी रोगी के खांसने, बात करने, छींकने या थूकने के समय बलगम व थूक की बहुत ही छोटी-छोटी बूंदें हवा में फैल जाती हैं, जिनमें उपस्थित बैक्टीरिया कई घंटों तक हवा में रह सकते हैं और स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में सांस लेते समय प्रवेश करके रोग पैदा करते हैं।
टीबी के लक्षण :
१. 3 हफ्ते से अधिक समय कि खांसी
२. रात के समय अधिक पसीना आना
३. एक महीने से ज्यादा समय तक सीने में दर्द
४. शाम के समय बुखार आना
५. भूक कम लगना
यह बीमारी हवा के जरिये एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति हो फैलाती है, हवा में इसके जीवाणु कम से कम 5 घंटे तक और उससे भी अधिक जीवित रहते है, यह बीमारी हवा के जरिये बहुत तेजी से और आसानी से फैलती है, खासी को कभी भी नज़रंदाज़ नहीं करना चाहिए
टीबी क्यों होता है और उसकी क्या वजह हो सकती है ?
१. गाय का कच्चा दूध पीने से टी.बी होने की संभावना बढ़ जाती है।
२. इन्फेक्टेड इंजेक्शन से
३. रोगी के संपर्क में रहने से इत्यादी
४. कपड़ा मिल में काम करने वाले श्रमिकों को यो रोग होने की ज्यादा संभवाना होती है, क्योंकि कपड़ो के रेशे-रोएं सांस लेते वक्त उनके अंदर प्रवेश कर जाते हैं।
५. मीजल्स,न्यूमोनिया और एचआईवी पॉजिटिव होना भी टी.बी का कारण हो सकता है।
६. छींकने खासने से
७. चुम्बन लार या थूक से फैलती है







यही हाल रहा तो 2019 Election में भी हार होगी': BJP…
Updated on 14 Mar 2018



30 हज़ार से ज़्यादा किसान नासिक से पैदल मुंबई पहुंचे,…
Updated on 11 Mar 2018



PM मोदी के फॉलोवर ट्विटर पर सब से ज़्यादा, जानिए भारत…
Updated on 07 Dec 2017



विराट कोहली से शादी की खबर पर अनुष्का शर्मा ने बताई…
Updated on 07 Dec 2017



राम मंदिर-बाबरी मस्जिद: जानिये छह दिसंबर 1992 को अयोध्या…
Updated on 04 Dec 2017




27 साल की लड़की जिसने पूरी दुनिया में घूमने का वर्ल्ड…
Updated on 09 May 2017



इंडस्ट्रीज के प्रकार और उनसे जुड़ी कुछ खास जानकारी…
Updated on 01 May 2017



जानिये गाँधी जयंती के बारे में और उनके कुछ उध्दरण
Updated on 14 May 2017



अब आपने घर का भी करवा सकते हैं इंश्योरेंस, जानिए इसके…
Updated on 08 Nov 2017



क्या आप जानते निरमा साबुन के पीछे की संघर्ष की कहानी…
Updated on 09 May 2017


जानिये टीबी के कुछ लक्षण और उसके होने का कारण

Updated on 14 May 2017 by Hindipost


              

टीबी एक आम और कई मामलों में घातक संक्रामक बीमारी है जो माइक्रोबैक्टीरिया, आमतौर पर माइकोबैक्टीरियम तपेदिक के विभिन्न प्रकारों की वजह से होती है। क्षय रोग आम तौर पर फेफड़ों पर हमला करता है, लेकिन यह शरीर के अन्य भागों को भी प्रभावित कर सकता हैं। यह हवा के माध्यम से तब फैलता है, जब वे लोग जो सक्रिय टीबी संक्रमण से ग्रसित हैं, खांसी, छींक, या किसी अन्य प्रकार से हवा के माध्यम से अपना लार संचारित कर देते हैं।

ज्यादातर संक्रमण स्पर्शोन्मुख और भीतरी होते हैं, लेकिन दस में से एक भीतरी संक्रमण, अंततः सक्रिय रोग में बदल जाते हैं, जिनको अगर बिना उपचार किये छोड़ दिया जाये तो ऐसे संक्रमित लोगों में से 50% से अधिक की मृत्यु हो जाती है।
टी.बी. रोग एक बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होता है। इसे फेफड़ों का रोग माना जाता है, लेकिन यह फेफड़ों से रक्त प्रवाह के साथ शरीर के अन्य भागों में भी फैल सकता है, जैसे हड्डियाँ, हड्डियों के जोड़, लिम्फ ग्रंथियां, आंत, मूत्र व प्रजनन तंत्र के अंग, त्वचा और मस्तिष्क के ऊपर की झिल्ली आदि।

टी.बी. के बैक्टीरिया सांस द्वारा शरीर में प्रवेश करते हैं। किसी रोगी के खांसने, बात करने, छींकने या थूकने के समय बलगम व थूक की बहुत ही छोटी-छोटी बूंदें हवा में फैल जाती हैं, जिनमें उपस्थित बैक्टीरिया कई घंटों तक हवा में रह सकते हैं और स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में सांस लेते समय प्रवेश करके रोग पैदा करते हैं।
टीबी के लक्षण :
१. 3 हफ्ते से अधिक समय कि खांसी
२. रात के समय अधिक पसीना आना
३. एक महीने से ज्यादा समय तक सीने में दर्द
४. शाम के समय बुखार आना
५. भूक कम लगना
यह बीमारी हवा के जरिये एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति हो फैलाती है, हवा में इसके जीवाणु कम से कम 5 घंटे तक और उससे भी अधिक जीवित रहते है, यह बीमारी हवा के जरिये बहुत तेजी से और आसानी से फैलती है, खासी को कभी भी नज़रंदाज़ नहीं करना चाहिए
टीबी क्यों होता है और उसकी क्या वजह हो सकती है ?
१. गाय का कच्चा दूध पीने से टी.बी होने की संभावना बढ़ जाती है।
२. इन्फेक्टेड इंजेक्शन से
३. रोगी के संपर्क में रहने से इत्यादी
४. कपड़ा मिल में काम करने वाले श्रमिकों को यो रोग होने की ज्यादा संभवाना होती है, क्योंकि कपड़ो के रेशे-रोएं सांस लेते वक्त उनके अंदर प्रवेश कर जाते हैं।
५. मीजल्स,न्यूमोनिया और एचआईवी पॉजिटिव होना भी टी.बी का कारण हो सकता है।
६. छींकने खासने से
७. चुम्बन लार या थूक से फैलती है